संदेश

चलन नहीं देवों के वंदन, करके उन्हें बुलाया जाये; इसीलिये गीता की झूठी, कसमें अब मैं खाता हूँ।
...“निश्छल”

07 November 2018

क्या छिपा रखा प्रिये

क्या छिपा रखा प्रिये
http://hindi.pratilipi.com/user/%E0%A4%85%E0%A4%AE%E0%A4%BF%E0%A4%A4-%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%AF-k80536hh5i?utm_source=android&utm_campaign=myprofile_share
✒️
हार जाता हूँ स्वयं ही, शस्त्र सारे डालकर;
क्या छिपा रखा प्रिये, इस मधुमयी मुस्कान में?

तीव्र बाणों की मधुर
संवेदना से आह भरता,
प्राण के प्रतिबिंब में
उस प्रेरणा की चाह करता,

मैं स्वतः ही मिट रहा, संजीवनी की खान में;
क्या छिपा रखा प्रिये, इस मधुमयी मुस्कान में?

कोंपल से सौम्यता
नव कली से अनुराग पाता,
सुवास रंजित पुष्प के
किलकारियों को गुनगुनाता,

खो गया हूँ मैं मधुप, फुलवारियों के गान में;
क्या छिपा रखा प्रिये, इस मधुमयी मुस्कान में?

स्नेह मन में है छिपा
निशि कोटरों से ख़ौफ़ खाता,
चंद्र की द्युति देखता
सौदामिनी उपदान पाता,

इक बार दर्शन दे प्रभा, जान आये जान में;
क्या छिपा रखा प्रिये, इस मधुमयी मुस्कान में?

कुहुक करती कोकिला
कंदर्प गति मन मोहती है,
झाँक कर के बसंती
मन मृणाल को टटोलती है,

डाल जादू मोहिनी, ऋतु की नयी इस तान में;
क्या छिपा रखा प्रिये, इस मधुमयी मुस्कान में?
...“निश्छल”

9 comments:

  1. बहुत ही प्र्यारी रचना प्रिय अमित | इस मधु - मोहिनी के जादू में गिरफ्तार अनुरागी मन के क्या कहने ????? शब्द - शब्द अनुराग छलक -छलक जाता है| अलंकृत शब्दावली मनमोहक है | दीपावली के शुभावसर पर आपको हार्दिक बधाई और शुभकामनाओं के साथ - इस सुंदर सरस रचना के लिए मेरा हार्दिक स्नेह विशेष |

    ReplyDelete
    Replies
    1. इन स्नेहमय शुभाशीषों के लिए आपका सादर अभिनंदन दीदी। महापर्व की हार्दिक शुभेच्छाएँ🎇🎆🎇 एवं नमन🙏🙏🙏

      Delete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार ९ नवंबर २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया श्वेता जी धन्यवाद, सादर नमन🙏🙏🙏

      Delete
  3. श्रृंगार रस में निमग्न बहुत सुंदर रचना अमित

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर रचना अमित जी 👌

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर!!
    श्रृंगार रस की उच्चतम प्रस्तुति बहुत सुंदर अलंकारों का प्रयोग ।
    बहुत बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर गीत ...
    शब्दों के माध्यम से चित्र उतरने का सफल प्रयास ...
    अलंकृत भावमय रचना है ...

    ReplyDelete